VPN क्या है और काम कैसे करता है (2021)

दोस्तों आज के इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको बताएँगे की VPN क्या है और काम कैसे करता है | प्रतिदिन बढती इन्टरनेट यूजर्स की संख्यां बहुत सारे क्राइम को जन्म देती है खासकर साइबर क्राइम |

इन्टरनेट अब हमारी जीवन का एक हिस्सा बन चूका है बिना इसके जीवन जीना थोडा मुश्किल हो गया है | हमलोग अपनी 90 फिसिदी काम इन्टरनेट से कर रहे है | हम बहुत सारे ऐसे काम (जैसे पैसों का लेन-देन, online शौपिंग , OTT app पर movie देखना) करते है जिसमे हम अपनी personal डाटा (अपना नाम , पता , फ़ोन.no. , bank details , debit card पिन) देते है और हमारा कार्य हो जाता है |

लेकिन क्या आपको पता है कि इन्टरनेट में अपना personal details share करना आपको कितना मुश्किल में डाल सकता है | अब आपके दिमाग में एक प्रश्न होगा की अपनी personal details share कर कैसे आप दुविधा में पर सकते है तो हम इसके बारे में भी बात करेंगे आगे|

बढ़ते यूजर्स के साथ-साथ साइबर क्राइम बहुत तेजी से बढ़ रही है | Hackers और Snoopers प्रति क्षण यही देखते रहते है की कैसे किसी की डाटा चोरी कर उससे ब्लैकमेल करके पैसे ले सके | लेकिन बढ़ते तकनीक के कारण इन्टरनेट security काफी अच्छी हो गयी है और समय-समय पर ऐसी तकनीक खोजी जा रही है जिससे इन्टरनेट सुरक्षा को और भी मजबूत बनाया जाय तथा साइबर क्राइम को रोका जाए |

ऐसे ही गलत लोगो से बचने के लिए हम VPN का इस्तमाल करते है जिससे हम बिना किसी डर भय के इन्टरनेट कोई भी काम आसानी से करते है | तो आइये ज्यादा बाते न करके सीधे आते आज के इस लेख पर और जानेंगे की VPN क्या है और यह काम कैसे करता है |

VPN क्या है और काम कैसे करता है
VPN क्या है और काम कैसे करता है

VPN क्या है (what is VPN in Hindi)

VPN का full-form Virtual Private Network होता है | यह एक ऐसे तकनीक है जो आपको public network use करते समय एक protected network प्रदान करती है | इसकी मदद से आप अपनी डाटा को इन्टरनेट पर सुरक्षित रख सकते है |

एक आम आदमी से लेकर बड़ी-बड़ी कंपनियां अपनी personal details को hackers से बचाने के लिए  VPN तकनीक का प्रयोग करती है |

कभी-कभी हमारे देश के कुछ हिस्सों में इन्टरनेट ब्लाक कर दिया जाता है जिस कारण हम अपना काम नही कर पाते है तब हम VPN की मदद से अपनी identity को पप्राइवेट रखकर काम करते है | अब हम जानेंगे की यह काम कैसे करता है |

VPN का अविष्कार किसने किया (Who invented VPN)

वीपीएन का अविष्कार सबसे पहले माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के द्वारा वर्ष 1996 में किया गया | ताकि ऐसे employ जो उस कंपनी के office पर बैठ कर काम नही कर पाए बल्कि उसके बाहर किसी अन्य जगह से काम करते हो वह उस कंपनी के इन्टरनेट network पर सुरक्षित access ले सके |

लेकिन जब ऐसा करने पर कंपनी को फायेदा होने लगा तो बाकी के दुसरे कम्पनी भी VPN तकनीक को इस्तेमाल करने लगे |

VPN काम कैसे करता है – (How VPN works)

दोस्तों हम VPN क्या है और इसका full-form क्या होता है| अब हम आपको बताएँगे की यह काम कैसे करता है |

VPN क्या है

जब आप एक सुरक्षित वीपीएन सर्वर पर connect होंगे तो आपकी इन्टरनेट ट्रैफिक एक encrypted tunnel से होकर गुजरता है जिसे कोई नही देख सकता मतलब न ही government और hackers और न ही आपका internet Service Provider (ISP) इसका मतलब यह हुआ की आपका डाटा को कोई पढ़ नही सकता |

हम इसको एक उधारण के साथ समझते है ताकि आपको समझने में कोई परेशानी न हो |

मान लेते है abc नाम की एक वेबसाइट जो India में ब्लॉक है और आप इसे India के अन्दर open करना चाहते है | जब भी आप इस वेबसाइट को India में open करेंगे तो ISP आपके Ip location को trace कर लेगी और block कर देगी जिससे की यह site नही खुलेगी| तो आप क्या करेंगे , चलिए आइये समझते है |

सबसे पहले आप अपने फ़ोन या लैपटॉप पर कोई भी एक वीपीएन app download करेंगे | इसको एक्टिव करने के बाद कोई एक location चुन ले (जैसे की US जहाँ यह site block नही है) | इसमें आपको एक US की IP एड्रेस मिलेगी| इसके बाद इंडिया के VPN उस US की सर्वर से successfully connect हो जाएगा |

जब इंडिया में उस ब्लॉक्ड वेबसाइट को open करेगा तो ISP को लगेगा की यह IP location US की है और वह वेबसाइट को खोलने की अनुमति दे देगी और आपका वेबसाइट open हो जायेगा| तो दोस्तों इसी तरह से VPN तकनीक काम करती है |

 

Computer में VPN का प्रयोग कैसे करे

कंप्यूटर में वीपीएन का प्रयोग करने के लिए सबसे पहले आप Opera Developer Software को अपने कंप्यूटर या लैपटॉप में download करके install कर ले |

install करने के बाद आपको उस software के Menu section में जाना है| अब आप सेटिंग के option में जाकर Privacy & security को क्लिक करें|

ऐसा सब कुछ करने के बाद आपको Enable VPN का option मिलेगा और check Box में टिक लगा देना है | VPN enable हुआ या नही इसको चेक करने के लिए , एक नया tab में कोई एक blocked site को open करें| अगर open हो गया तो आपके कंप्यूटर पर VPN सेटिंग enable हो चूका है |

 

Mobile में VPN का प्रयोग कैसे करे

मोबाइल में वीपीएन का इस्तमाल करना बहुत ही आसान है | आप निम्न steps को follow कर इसका प्रयोग कर सकते है |

Play store में आपको बहुत सारे VPN application मिल जायेंगे और उसका आप प्रयोग कर सकते है लेकिन क्या आपको पता है की आप बिना कोई third-party apps के भी वीपीएन का इस्तेमाल कर सकते है |

बिना किसी app के VPN का प्रयोग कैसे करे अपने मोबाइल पर

दोस्तों बिना किसी app के वीपीएन का प्रयोग करने लिए सबसे पहले आपको निम्न बातों को follow करना होगा |

सबसे पहले आपको अपने फ़ोन के setting में जाना होगा  वहां आपको Other Wireless के option में जाना है | यहाँ आपको वीपीएन का option मिल जाएगा और इसे क्लिक कर ले | अगर आप कोई भी दूसरा app install किये है तो यहाँ दिखने लगेगा |

ऊपर में आपको प्लस (+)/Add का चिन्ह मिलेगा , इस पे क्लिक कर लेने के बाद आपको कुछ सेटिंग करनी है | सबसे पहले आपको नाम भरने का option मिलेगा आप कोई भी नाम भर दे|

इसके बाद VPN type में आपको दूसरा वाला option को select कर लेना है | इसके बाद आप server address भरना होगा , आप जिस country का सर्वर use करना चाहते है उसे कॉपी कर यहाँ paste कर दे |बहुत सारे ऐसे वेबसाइट जहाँ आपको अलग-अलग देशों की सर्वर मिल जायेगी |

यह सब करने के बाद निचे आपको एक option (IPSec Preshared Key नाम से ) दिखाई देगा , इसमें आप छोटे अक्षरों में vpn type करे दे | इसके बाद आपको Forwarding route का option मिलेगा इसमें आप निम्न संख्या (0.0.0.0/0) को भर दे | यह सारा काम करने के बाद आपको Save कर देना है |

हम वीपीएन को create कर चुके है अब हमे इसे सर्वर से connect करना होगा| इसे सर्वर से connect करने के लिए आप से username और paasword डालना होता है | दोनों जगहों में आपको vpn लिख देना है और connect कर देना है थोडा समय लेकर यह सर्वर से connect हो जाएगा और आप इस तरह से इसका use कर सकते है |

अगर आप कोई दूसरा app से वीपीएन use करना चाहते है तो आप कोई भी एक app को download करके उसके दिए हुए सेटिंग्स को पूरा करके इसका इस्तेमाल कर सकते है | सभी vpn app के almost same ही सेटिंग्स होती है |

 

VPN कितने प्रकार के होते है (Types of VPN)

वीपीएन प्रायः दो प्रकार के होते है |

  1. Remote-Access
  2. Site-to-Site

Remote-Access –

इस वीपीएन के मदद से users किसी अन्य network पर एक Private Encryption tunnel के जरिये connect हो पाते है | इसके जरिये कंपनी इन्टरनेट या फिर कोई public इन्टरनेट network से जोड़ा जा सकता है |

Site-to-Site –

इस तरह के वीपीएन को Router-toRouter वीपीएन भी कहा जाता है | इस type का use अधिकतर कॉरपोरेट वातावरण में किया जाता है | जब किसी कंपनी की किसी अन्य जगहों में बहुत सारी शाखाएं होती है

ऐसे में site-to-site वीपीएन एक closed internal network बनता है जिसमे सभी location एक साथ connect हो सके , जिसे Intranet कहा जाता है |

 

VPN के क्या फायेदे है (Benefits of  VPN)

वीपीएन के बहुत सारे फायेदे है जिसमे की आप अपने personal details और activity को छुपा सकते है | जैसे :-

  • Location
  • Browsing history
  • IP address
  • Web Activity
  • Streaming Locations

VPN के क्या नुकसान है (Disadvantage of VPN)

फायेदे के साथ-साथ इसके कुछ नुक्सान भी है | जैसे :-

  • Slow Internet Speed
  • No Cookies Protection
  • Data Loss
  • Not Total Privacy

Trusted VPN की पहचान कैसे करें

वीपीएन की मदद से आप Hackers , Snoopers और सरकार से तो अपनी डाटा को छुपा सकते है लेकिन खुद वीपीएन कंपनियां अगर चाहे तो आपकी डाटा को देख सकता है | इसीलिए हमें एक trusted कंपनी से ही VPN खरीदनी चाहिए | Trusted वीपीएन की पहचान ऐसे करें|

  • वीपीएन आपको एक sufficient स्पीड provide करें
  • कंपनी लेटेस्ट प्रोटोकॉल का use करें
  • आपकी प्राइवेसी को secure रखे
  • कंपनी की value अच्छी हो
  • आप multiple डिवाइस पर वीपीएन access कर सकते हो
  • वीपीएन का Price उपयुक्त (suitable) हो
  • अधिक से अधिक Encryption उपलब्ध हो
  • अच्छी customer support उपलब्ध कराये
  • Ads block करने की सुविधा हो
  • Free trial करने की अनुमति हो

आपने सिखा –

आज के इस लेख ‘VPN क्या है और काम कैसे करता है’ में हमने आपको वीपीएन का बारे में बहुत सारी जानकारी दी है | हम आशा करते है की आपको यह पोस्ट बहुत ही पसंद आई होगी | किसी भी सुझाव या बदलाव के लिए आप हमें कमेंट कर सकते है | मेरी आपसे अनुरोघ है की कृपया इस लेख को ज्यादा से ज्यादा share करे ताकि और भी हमारे भाई बंधू इस जानकारी को ले सके |

नमस्कार दोस्तों , मैं मनिष कर्मकार , Founder of Hindiease आपका स्वागत करता हूँ | मुझे ब्लॉग लिखना बहुत ही अच्छा लगता है | मैं अलग-अलग टॉपिक्स पर हिंदी में ब्लॉग लिखता हूँ| आप मेरे बारे में About Us page पर जाकर पढ़ सकते है |

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap