CID और CBI क्या है | सीआईडी और सीबीआई में अंतर जानिये

दोस्तों हम आपको आज के इस लेख ‘CID और CBI क्या है  के माध्यम से एक बहुत ही साधारण चीज बताने वाले है| हम और आप इन दो शब्द (CID और CBI) से भलीभांति अवगत है | आप जरूर कुछ न कुछ इसके सन्दर्भ में जानते होंगे लेकिन हम आपको आज ‘CID और CBI में क्या अंतर है’ और इससे जुड़े कुछ दिलचस्प बाते  बताने वाले है |

 

आप छोटे से पढ़ते आ रहे है , बचपन में हमने इसके फूल-फॉर्म सिखा था लेकिन इसमें क्या अंतर है यह हम नही जानते है | तो चलिए बिना देरी किये शुरू करते है |

 

CID क्या है ?

दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दे कि CID का full-form ‘Criminal Investigation Department’ होता है जिसे हिंदी में ‘अपराधशील खोज विभाग’ कहा जाता है | यह भारत देश की जांच एजेंसी में से एक  है , यह सिर्फ राज्य स्तर में हो रहे घटनाओं की जांच करती है | राज्य स्तर मामले जैसे राज्य में कहीं दंगा  मर्डर  बलात्कार  अपहरण  चोरी हो जाए तो इसकी जांच जी जिम्मेवारी CID की होती है |

 

दोस्तों सीआईडी की स्थापना सन 1902 में हुई थी जो की देश आजाद होने से पहले ही हो गयी थी |  ब्रिटिश सरकार ने उस समय के पुलिस आयोग के सिफारिश पे की थी | यह एक तरह का पुलिस का संघटन होता है जो गुप्त तरीके से मामलो की जांच करती है | इस संघटन में सिर्फ राज्य पुलिस की अधिकारी ही भर्ती किये जाते है और जुड़ने से पहले पुलिस अधिकारीयों को एक विशेष प्रशिक्षण दी जाती है |

CID और CBI क्या है | सीआईडी और सीबीआई में अंतर जानिये
CID और CBI क्या है |

कभी-कभी CID जांच राज्य सरकार या उस राज्य के उच्च न्यायलय के द्वारा सौंपा जाता है | इसमें मुख्य रूप से सफ़ेद वर्दी वाले जासूस होते है जो एडवांस्ड तकनीक और फॉरेंसिक डिवाइस के द्वारा जांच करती है |

दोस्तों आपने तो प्रसिद्ध टीवी सीरियल CID तो देखी ही होगी और यह कैसे काम करती यह भी आप अच्छी तरह से जानते है |

 

CBI क्या है ?

CBI का फूल-फॉर्म Central Bureau of Investigation होता है जिसे हिंदी में केन्द्रीय जांच ब्यूरो कहा जाता है | दोस्तों यह जांच एजेंसी भारत सरकार यानी केन्द्रीय सरकार के अंतर्गत आती है और राष्ट्रीय स्तर पर जांच करती है | इसकी स्थापना सन 1941 को की गयी थी और ‘सेंट्रल जांच ब्यूरो’ का नाम अप्रैल 1968 को दी गयी |

 

सीबीआई का मुख्यालय भारत की राजधानी दिल्ली में है | Delhi Special Police Establishment Act 1946 के तहत सीबीआई को राष्ट्रीय अपराधिक मामलों में छानबीन करने का जिम्मा दिया गया | राज्य सरकार की सहमती से केंद्र सरकार राज्य में किसी भी अपराधिक मामलो में सीबीआई जांच करा सकती है |

 

कुछ ऐसे मामले जिसमे की अपराधियों का ताल-मेल विदेशों तक रहता है , ऐसे में सीबीआई को विदेशों तक जांच करने का निर्देश दिया जाता है |

मुख्य रूप से सीबीआई देश में हो रहे बड़े-बड़े घोटालों  और राष्ट्रिय और अन्तराष्ट्रीय अपराधिक मामलों में जांच करती है | हालांकि सीबीआई केंद्र सरकार की मुठी में नही होती है | ऐसा इसलिए क्योंकि यह सरकार के बिना आदेश के उच्च न्यायलय और सर्वोच्च न्यायलय में जांच कर सकती है |

यह भी पढ़े :- GDP का full-form क्या होता है ?

CID और CBI में क्या अंतर है ?

1.  जैसा की आपको पहले बता दिए की सीआईडी की स्थापना ब्रिटिश सरकार के द्वारा 1902 में की गई जबकि सीबीआई की स्थापना 1941 में स्पेशल पुलिस के रूप में की गयी |

2.  सीआईडी राज्य के अधीन काम करती है जबकि सीबीआई केंद्र सरकार के अन्दर राष्ट्रीय या अन्तराष्ट्रीय जांच करती है |

3.  सीआईडी के पास जो भी मामले आते है यो सारे उच्च न्यायलय या राज्य सरकार के द्वारा सौपा जाता है जबकि सीबीआई को केंद्र सरकार राज्य सरकार उच्च न्यायलय और सर्वोच्च न्यायलय के द्वारा सौपा जाता है |

4.  सीआईडी में जाने के लिए राज्य सरकार के द्वारा आयोजित पुलिस परीक्षा पास करने के बाद Criminology की भी परीक्षा करनी होती है जबकि सीबीआई में जाने के लिए एसएससी की परीक्षा पास करनी होती है |

5.  सीआईडी में  Finger Print Bureau, Anti-Narcotics Cell, Anti-Human Trafficking and Missing Person Cell जैसे शाखाएं होते है  जबकि सीबीआई में Anti-Corruption Division, Economic Crimes Division, Special Crimes Division, Central Forensic Science Laboratry जैसे शाखाएं होते है|

 

CID और CBI ऑफिसर कैसे बने ?

दोस्तों अगर आप सीआईडी या सीबीआई अफसर बनना चाहते है तो उसके लिए यह निम्न योग्यताये है :-

  • Qualification :- सबसे पहले तो आपको एक भारतीय नागरिक हो अनिवार्य है| इस विभाग में कांस्टेबल के पद पर भर्ती होने के लिए आपके पास कम से कम बारहवीं की डिग्री होनी चाहिए | अगर आप इससे ऊपर की पोस्ट में जाना चाहते है तो उसके लिए कम से कम स्नातक की डिग्री किसी भी स्ट्रीम में होना अनिवार्य है |
  • Age limit :- उम्र की बात करें अगर तो इसकी न्यूनतम उम्र सीमा 20 वर्ष है और अधिकतम उम्र 27 वर्ष है| आप इसके बीच आवेदन दे सकते है | आप कैटोगरी वाइज उम्र सीमा का फायेदा उठा सकते है |
  • Attempt :-  सामान्य और ओबीसी वर्ग के लिए क्रमशः 4 और 7 बार तक का प्रयास दिया जाता है और SC/ST के लिए कोई भी limit नही है |
  • Exam Stage :- इस परीक्षा के तीन स्टेज होते है | लिखित टेस्ट , शारीरिक टेस्ट , और साक्षात्कार

दोस्तों हमारे देश में ज्यादतर लोग सीआईडी से ज्यादा सीबीआई को महत्व देते है| ऐसा इसलिए की यह एक ऐसी एजेंसी है भारत के अन्दर या इसके बाहर अपराधियों की जांच करती है |

यह इसलिए भी ज्यादा प्रसिद्ध है क्योकि जब भी यह कोई अपराधिक मामलों के जांच में जुटती है तो हमारे देश की मीडिया चैनल इसको ब्रेकिंग न्यूज़ बनाने से पीछे नही हटते है |

 

आपने सिखा :-

दोस्तों आज के इस लेख ‘CID और CBI क्या है और इसमें क्या अंतर है’ में हमने आपको CID और CBI क्या है इने दोनों के बीच क्या अंतर है बातों से अवगत कराने की कोशिश की और साथ में यह भी बताया की आप कैसे सीआईडी और सीबीआई अफसर बन सकते है | अगर आपको यह पोस्ट अच्छी लगी तो अपने ग्रुप में साझा करना न भूले |

नमस्कार दोस्तों , मैं मनिष कर्मकार , Founder of Hindiease आपका स्वागत करता हूँ | मुझे ब्लॉग लिखना बहुत ही अच्छा लगता है | मैं अलग-अलग टॉपिक्स पर हिंदी में ब्लॉग लिखता हूँ| आप मेरे बारे में About Us page पर जाकर पढ़ सकते है |

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap